Category Archives: ●साहित्य

स्व: तलाश [✍”दैनिक खोज खबर” ऑन-लाईन हिन्दी न्यूज वेबपोर्टल के लिए लेख- ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना]

स्व: तलाश [✍”दैनिक खोज खबर” ऑन-लाईन हिन्दी न्यूज वेबपोर्टल के लिए लेख- ब्लॉगर आकांक्षा सक्सेना] •कविता…स्व: तलाश ========== बचपन बीता सपने देखे फिर पढ़ लिखकर जॉब को भागे खुद से पूछा कौन है तेरा आवाज आयी कोई नही मेरा धक्का लगा सच जानकर खुद को देखा आँख मूँद कर सबकुछ था टूटा उजड़ा जीवन बीता बाहर दौड़े कभी न खुद अंदर

Read more

नया साल का महीना आ गया ,मस्ती करने का जमाना आ गया( काव्य )

 खगड़िया की रहने वाली” राधा यशी “किसी भी परिचय की मोहताज नही। नारी शोषण के लेख से कई पुरस्कार से सम्मानित है ।खगड़िया की बेटी ने  साहित्य के क्षेत्र में धूम मचा रखी है। नववर्ष के मौके पर छोटी सी कविता दैनिक खोज खबर के पाठकों के सामने प्रस्तुत:- प्रस्तुतकर्ता :-कुंज बिहारी शास्त्री जिला सवांददाता मधेपुरा संकलन :-नौशाद आलम सवांददाता

Read more

चौसा( मधेपुरा ):-29 दिसंबर को सामाजिक शैक्षणिक कल्याण संघ के बैनर तले “पडोस युवा संसद कार्यक्रम ” का  किया जाएगा आयोजन 

🔴🔴29 दिसंबर को सामाजिक शैक्षणिक कल्याण संघ के बैनर तले “पडोस युवा संसद कार्यक्रम ” का  किया जाएगा आयोजन 🔴🔴  👈कुमार साजन “दैनिक खोज खबर” चौसा ,मधेपुरा👉 ​नेहरू युवा केंद्र, मधेपुरा के तत्वावधान में आगामी 29 दिसंबर को सामाजिक शैक्षणिक कल्याण संघ के बैनर तले “पडोस युवा संसद कार्यक्रम ” का आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर बेटी बचाओ -बेटी

Read more

               शाम भी जलाती है (काव्य )

साहित्य में कविताओं का एक अलग ही महत्व है । जिसमें छंद और लय की समावेश पाई जाती है ।कभी लेखक गायन के माध्यम से भी प्रस्तुति करते हैं। जिसमें तुकबंदी का अधिक महत्व देखा जाता है ।कविता विधा में दिन प्रतिदिन नई शोध होती रहती है ।इसी क्रम में आज प्रस्तुत है :– ✒✒डॉ जियाउर रहमान जाफरी साहब की

Read more

        माँ मैं भी पढ़ने जाऊँगी (काव्य प्रस्तुति)

हिंदी साहित्य में काव्य रस का एक अलग ही महत्व है ।जिसमें छंद और रस की प्रधानता होती है ।कविता रस के साथ अंतर आत्माओं को छूने का काम करती है ।जो सरस और कर्णप्रिय होती है। कविता कवियों का अंतर आत्माओं द्वारा उत्पन्न तरंग की उत्पत्ति होती है ।आज कविताओं में नई विधाएं जुटती हुई नजर आ रही है।

Read more

​🔴🔴दहेज एक अभिशाप 🔴🔴

​दहेज एक अभिशाप ।।साहित्य में कविता का एक अलग ही महत्व है। जिसमें छंद के साथ रस भी मौजूद रहता है ।कविता कवियों के हृदय में उठ रही वेतनों की आवाज है, प्रस्तुत है एक कविता जिसका शीर्षक दहेज प्रथा । संकलन:- नौशाद आलम  प्रस्तुति :-कुंजबिहारी शास्त्री “दैनिक खोज खबर “जिला संवाददाता, मधेपुरा  दहेज प्रथा  हमारे पूरे समाज में  एक

Read more

शक्ल कि न तो सूरत होती है (गजल )

🔴🔴शक्ल कि न तो सूरत होती है गजल 🔴🔴 प्रस्तुति :-कुंजबिहारी शास्त्री “दैनिक खोज खबर” जिला संवाददाता ,मधेपुरा  संकलन :-नौशाद आलम बेगुसराय जिले के छोटी बलिया की रहने वाली रेशमा रानी पेशे से दोनो पति पत्नी शिक्षक है । बच्चे को नियमित शिक्षा देना इनकी आदत में शुमार है ।गरीब बच्चे को मुफ्त में शिक्षा एवं कापी कलम किताब स्लेट

Read more
« Older Entries