Saharsa : निजी विद्यालय का बच्चों से भरा ओटो पलटने से शिक्षिका सहित बच्चे जख्मी

बच्चों से भरी ओटो पलटी शिक्षिका सहित दो बच्चे जख्मी

तीन दिन में दो स्कूली गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने से अभिभावकों में खौफ

सुप्रीम कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ा रहे हैं निजी स्कूलों वाहन

सिमरी बख्तियारपुर (सहरसा) ब्रजेश भारती।

बख्तियारपुर थाना क्षेत्र के सिमरी बख्तियारपुर – बलवाहाट पथ के भौंरा चौक के समीप शनिवार को एक निजी स्कूली बच्चों से भरी ओटो पलटने से एक शिक्षिका सहित दो बच्चे जख्मी हो गए।

सभी घायलों को इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पताल सिमरी बख्तियारपुर में भर्ती कराया गया। वही बख्तियारपुर पुलिस घायलों का ब्यान ले मामले की छानबीन शुरू कर दुर्धटनाग्रस्त ओटो को जप्त कर लिया है। वही चालक घटना के बाद फरार है।
इस सड़क हादसे में स्कूल की शिक्षिका जुसी कुमारी , छात्र हर्षवर्धन सिंह(7 वर्ष) पिता प्रभाष सिंह सरडीहा ,सरस्वती कुमारी(4 वर्ष) पिता विनोद यादव सकरौली सरडीहा शामिल है।

घटना के संबंध में जख्मी दोनों बच्चों के पिता ने बताया कि सिमरी बख्तियारपुर के डाक-बंगला चौक स्थित राज विद्या विहार स्कूल की ओटो प्रत्येक दिन की भांति शनिवार सुबह भी विभिन्न स्थानों से स्कूली बच्चों को लेकर विद्यालय जा रही थी कि भौरा चौक के समीप तेज रफ्तार की वजह से अनियंत्रित होकर सड़क पर ही पलट गई ।

वही प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया कि जब स्कूली ऑटो बच्चों को लाने सरडीहा की ओर जा रही थी तभी चालक लापरवाही से तेज गति से ऑटो भगा रहा और लौटने के दौरान भी काफी तेज गति में था और तेज गति में ही ऑटो मोड़ने के दौरान दूर्घटना ग्रस्त हो गया। वहीं घटना की सूचना पर पहुंचे बख्तियारपुर थाना के दरोगा अनिल कुमार ने घटना की छानबीन करते हुए ऑटो को जब्त कर लिया ।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश की उड़ाई जा रही है धज्जियां –

सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल क्षेत्र में कुकुरमुत्ते की तरह खुल गए निजी स्कूलों में बच्चों को घर से लाने एवं ले जाने के लिए विद्यालय प्रबंधन द्वारा चलाए जा रहे स्कूली वाहन किसी भी नियम कानून को ताक पर रख गाड़ियों का परिचालन कर रहे हैं।
सैकड़ों की संख्या में इस अनुमंडल क्षेत्र में निजी विद्यालय संचालित है भले मात्र इनमें से एक दर्जन ही स्कूलों को मान्यता प्राप्त हो लेकिन सभी विद्यालय में कमोबेश वाहन बच्चों के लिए प्रयुक्त होता है। लेकिन रंग बिरंगी रंगों में सुबह सुबह स्कूली वैन सड़कों पर दौड़ते नजर आ रहे हैं। जबकि सुप्रीम कोर्ट का आदेश है कि स्कूली पीला रंग में ही होना चाहिए साथ ही ड्राइवर व गाड़ी रफ्तार सीमित रखनी है।
भेड़ बकरी की तरह बच्चों को गाड़ी में भर खुले आम ये गाड़ी सड़क पर दौड़ती है लेकिन परिवहन विभाग एवं स्थानीय प्रशासन आंख मुंद किसी अनहोनी के होने का इंतजार करती नजर आती है।

यहां बताते चलें कि वुधवार को सिमरी-रानीबाग पथ पर एक अनियंत्रित स्कूली वैन पलटने से चालक की मौत हो गई थी वहीं एक अन्य जख्मी हो गया था। लेकिन इस हादसे के बाद भी प्रशासनिक स्तर पर इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया दुसरी घटना हो गई। अगर जल्द इस ओर ध्यान नहीं दिया गया तो कभी भी कोई बड़ी हादसे से इंकार नहीं किया जा सकता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s