एकल शिक्षा प्रणाली से ही शिक्षा का विकास संभव – समरेन्द्र बहादुर

एकल शिक्षा प्रणाली से ही शिक्षा का विकास संभव – समरेन्द्र बहादुर

#रिपोर्ट:-अज़हर करीम/ईसुआपुर :

इसुआपुर(सारण):बापू के सपनों का भारत एकल शिक्षा प्रणाली से ही संभव है । गरीब-अमीर सभी तबकों के बच्चों के लिए पूरे देश में एक समान शिक्षा देने की व्यवस्था हो तभी देश का विकास संभव है ।ये बातें बिहार परिवर्तनकारी शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष समरेन्द्र बहादुर सिंह ने इसुआपुर में आयोजित शिक्षक समस्या संग्रह सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा ।उन्होंने शिक्षा के गिरते स्तर पर चिंता व्यक्त करते हुए केन्द्र व कार्य सरकारों को भी कोसा ।शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने ,संसाधनों की कमी ,शैक्षणिक सत्र दो माह बीत जाने के बाद भी सरकारी स्कूल के बच्चों को पुस्तकें नहीं दी गई ।जो शिक्षा के विकास के नाम पर मजाक है ।उन्होंने इसके लिए विद्यार्थियों के अभिभावकों को भी जिम्मेवार ठहराते हुए कहा कि उनके द्वारा आए दिन छात्रवृति ,साईकिल ,पोशाक राशि तथा एमडीएम नहीं बनने की शिकायतें की जाती हैं ।जबकि बच्चों को किताबें नहीं मिलने ,उनकों समय पर स्कूल नहीं भेजने ,उपस्थिति ,संसाधनों की कमी तथा पढ़ाई बाधित होने जैसी शिकायतें तभी नहीं की जाती ।वहीं शिक्षकों को भी कहा कि बच्चों को ज्ञान का प्रकाश देने वाला ही गुरू कहलाने लायक है ।संघ की लड़ाई केवल वेतनमान की लड़ाई नहीं है ,बल्कि सरकारी स्कूल में भेजने वाले उन तमाम बच्चों के माता-पिता के विश्वास पर खड़ा उतरकर शिक्षा का अलख जगाना भी है ।
इस दौरान संघ के पदाधिकारी शिक्षकों की समस्याओं से भी रूबरू हुए तथा शीघ्र निराकरण का भी भरोसा दिलाया ।वहीं कुछ मामलों का आन द स्पॉट निदान भी किया गया ।कार्यक्रम के शुरूआत में शिक्षक सम्मान समारोह आयोजित हुई ।जिसमें शिक्षकों को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया गया ।सम्मेलन को संघ के जिला उपाध्यक्ष मुकेश कुमार ,सदर प्रखण्ड अध्यक्ष रामबहादुर सिंह ,प्रखण्ड अध्यक्ष अशोक यादव ,सचिव अजय कुमार ,ओमप्रकाश गुप्ता,मो.एहसान समेत दर्जनों शिक्षक नेताओं ने संबोधित किया ।संचालन उपेन्द्र साह ने किया ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s